शेयर बाजार में निवेश आजकल हर किसी को लुभा रहा है। ऐसा इसलिए कि डिजिटल क्रांति से उपजी इन्टरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़ी है। खासकर, मोबाइल द्वारा रियल टाइम में स्टॉक खरीदना और बेचना सुलभ हुआ है। बढ़ता हुआ स्टॉक मार्केट इंडेक्स और निफ्टी के लुभावने आंकड़े प्रायः हर किसी को लुभा रहे हैं। दरअसल, स्टॉक मार्केट के सम्बन्ध में तमाम जानकारी अब मोबाइल इन्टरनेट पर भी उपलब्ध है जिससे निवेश के अन्य विकल्पों, यथा- बैंक जमा, सोना आदि से भी अधिक लाभ की सम्भावना स्टॉक मार्केट निवेश में है।

लिहाजा, यदि आप भी स्टॉक मार्केट में निवेश की शुरुआत करना चाहते हैं और यह नहीं समझ पा रहे हैं कि स्टॉक मार्केट में निवेश की शुरुआत किस ब्रोकर के साथ में की जाए, तो निम्नलिखित बातों पर गौर कीजिए ताकि आप स्टॉक मार्केट में समुचित निवेश की शुरुआत आसानी से कर सकें।
ZERODHA ACOUNT OPEN LINK

भारत में एक बेहतर डिस्काउंट ब्रोकर है और आज के समय सबसे ज्यादा ट्रेडर ज़ेरोधा पर एक्टिव है मोबाइल एप्लीकेशन काफी शानदार है और दुसरे टर्मिनल भी बेहद अच्छे है ब्रोकरेज भे बेहद कम है डिलीवरी के लिये कोई ब्रोकरेज नही लेता है अगर आप का ट्रेडिंग वॉल्यूम ज्यादा हे तो अवश्य ही zerodha में ही शेयर ट्रेडिंग करे।

शून्य अथवा बहुत कम ब्रोकरेज देकर छोटे निवेशकों के लिए शेयर बाजार में निवेश करने के लिए यह एक अच्छा माध्यम है।

जेरोधा बनी देश की सबसे बड़ी ब्रोकरेज फर्म, दूसरे नबंर पर कौन?

जेरोधा देश की सबसे बड़ी ब्रोकरेज फर्म बन गई है. इसने ग्राहकों की संख्या के लिहाज से बड़ी ब्रोकरेज कंपनियों को पीछे छोड़ दिया है. 2018 में यह निवेशकों की पसंदीदा ब्रोकरेज फर्म बनकर उभरी है.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के आंकड़ों के मुताबिक, दिसंबर 2018 के अंत में जेरोधा के सक्रिय ग्राहकों की संख्या 8.47 लाख थी. इसके मुकाबले आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के ग्राहकों की संख्या 8.45 लाख थी. शेयरखान के पास 5.49 लाख ग्राहक थे. एक्सिस सिक्योरिटीज के ग्राहकों की संख्या 4.17 लाख थी. एंजेल ब्रोकिंग के पास 4.16 लाख ग्राहक थे.

कोटक सिक्योरिटीज, मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज, कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग और आईआईएफएल भी बड़ी ब्रोकिंग कंपनियों में शामिल हैं. इनके ग्राहकों की संख्या 2.32 से 4.96 लाख के बीच है. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले पांच साल में जेरोधा के ग्राहकों की सालाना ग्रोथ रेट 200 से 300 फीसदी रही है.
ज़ेरोधा में खाता खोलें
जेरोधा के मॉडल पर काम करने वाली ब्रोकरेज फर्मों को डिस्काउंट ब्रोकरेज कहा जाता है. इस मॉडल पर काम करने वाली दूसरी कंपनियों की ग्रोथ भी काफी तेज रही है इनमें अपस्टॉक्स (पहले आरकेएसवी), सैम्को और एसएएस ऑनलाइन शामिल हैं. इन ब्रोकरेज फर्मों के ग्राहकों की संख्या में भी पिछले दो साल में दो से तीन गुनी वृद्धि हुई है. ऐसी ब्रोकरेज फर्मों को डिस्काउंट ब्रोकरेज कहते हैं, जो पुराने ब्रोकरेज फर्मों के मुकाबले ग्राहकों से बहुत कम कमीशन लेती है. ये सिर्फ ऑनलाइन ट्रेडिंग फैसिलिटी देती है. ये रिसर्च सपोर्ट या वित्तीय सलाह नहीं देती हैं.

दुनिया भर में कम कमीशन वाले मॉडल के चलते डिस्काउंट ब्रोकरेज फर्म ट्रेडर्स के बीच बहुत लोकप्रिय रही हैं. निवेशकों के बीच में इतनी लोकप्रियता इतनी नहीं रही है. जेरोधा टेक्नोलॉजी आधारित स्टॉक ब्रोकिंग कंपनी है. इसकी शुरुआत 2010 में हुई थी. नितिन कामत और निखिल कामत ने इसकी स्थापना की थी. दोनों भाई हैं. जेरोधा देश की पहली डिस्काउंट ब्रोकरेज फर्म है. इसकी शुरुआत से देश की ब्रोकिंग इंडस्ट्री का परिदृश्य काफी बदला है.

ज़ेरोधा में अपना शेयर मार्केट का खाता खोलने के लिये क्लिक करें