केद्र सरकार ने महंगाई भत्ते को 10 फीसदी बढ़ाने के
प्रस्ताव को अपनी मंजूरी दे दी है. इससे मंहगाई
भत्ता 80 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत हो जाएगा.
इस निर्णय से करीब 50 लाख केंद्रीय कर्मचारियों और
30 लाख पेंशनभोगियों को फायदा होगा. सूत्रों से
मिली जानकारी के अनुसार केंद्रीय मंत्रिमंडल ने यहां हुई
बैठक में मंहगाई भत्ते को बढ़ाकर 90 प्रतिशत करने के
प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. यह वृद्धि इस साल
पहली जुलाई से प्रभावी होगी.
सूत्रों के मुताबिक मंहगाई भत्ते को बढ़़ाकर 90 प्रतिशत
करने से सरकारी खजाने पर सालाना 10,879 करोड़ रुपये
का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा. चालू वित्त वर्ष में यह
अतिरिक्त खर्च 6,297 करोड़ रुपये के बराबर होगा.
करीब तीन साल बाद मंहगाई भत्ते में 10 प्रतिशत
वृद्धि की गयी है. इससे पहले सितंबर 2010 में सरकार ने
10 प्रतिशत बढ़ोतरी की घोषणा की थी, जो एक जुलाई
2010 से लागू हुई थी. अप्रैल 2013 में महंगाई
भत्ते को 72 प्रतिशत से बढ़ाकर 80 प्रतिशत
किया गया था यह वृद्धि इस साल एक जनवरी से लागू
हुई थी.
आम तौर पर सरकार मंहगाई भत्ता तय करने के लिए
पिछले 12 महीने की औद्योगिक श्रमिकों से संबंधित
खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़ों का इस्तेमाल करती है.
मंहगाई भत्ते में ताजा बढ़ोतरी के लिए जुलाई 2012 से
जून 2013 के बीच के औद्योगिक श्रमिकों से जुड़े
खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़े का आकलन किया गया.