Archive | November, 2012

विभिन्न लोक सेवा आयोगों द्वारा निम्न SCALING FORMULA प्रयुक्त किया जाताहै

20 Nov

विभिन्न लोक सेवा आयोगों द्वारा निम्न SCALING FORMULA प्रयुक्त किया जाताहै
SCALED MARKS = M ( x – m ) S /s
वहीँ
M = सभी विषयों के प्राप्तांकों का overall माध्य ( औसत )
x = अभ्यर्थी के किसी एच्छिक विषय में प्राप्तांक
m = उस एच्छिक विषय में सभी अभ्यर्थियों के प्राप्तांकों का overall माध्य ( औसत )
S = सभी एच्छिक विषयों के प्राप्तांको का मानक विचलन ( standard deviation )
s = किसी एक एच्छिक विषय में सभी अभ्यर्थियों के प्राप्तांको का मानक विचलन (s.d )
स्पष्टीकरण :
*. उपरोक्त सूत्र में यहाँ स्पष्ट है की M व S सभी के लिए समान होते हैं व शेष variables अर्थात m ,x ,s विषय अनुसार बदल जाते हैं
*. मानक विचलन (s .d ) बताता है की किसी श्रंखला ( यहाँ प्राप्तांक ) के सभी मूल्य ( values ) उस श्रंखला के औसत से कितनी औसत दुरी पर हैं। अर्थात यदि geography का मानक विचलन 5 है तो इसका अर्थ है की GEOG . में सभी अभ्यर्थियों के marks geographyमें average मार्क्स से 5 अंक की औसत दुरी( कम या अधिक ) पर हैं
*. अर्थात कम मानक विचलन बताता है की श्रंखलाके सभी मूल्य श्रंखला के औसत के पास ही घनीभूत(clustered) है व अधिक मानक विचलन बताता है की सभी मूल्य , औसत से अधिक दुरी पर बिखरे हुए हैं।
*. मानक विचलन (s .d ) =
IMPORTANT : उपरोक्त जानकारी केवल सूचनात्मक है इनमे से अधिकांश VARIBLES पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं अतः उस पर ध्यान लगाये जो आपके हाथ में है I .E HARDWORK

Advertisements

नए चीनी नेतृत्व की चुनौतियां

20 Nov

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी संतोष कर सकती है कि उसने एक दशक के अंतराल पर होने वाले नेतृत्व परिवर्तन का काम लगातार दूसरी बार शांतिपूर्ण एवं व्यवस्थित ढंग से पूरा कर लिया है। मगर चीन के नेता भी इससे वाकिफ हैं कि नेतृत्व के स्तर पर किसी बड़ी उथल-पुथल के न होने का मतलब यह नहीं है कि देश में सब कुछ ठीक-ठाक है। उल्टे बड़े नेताओं पर भ्रष्टाचार की लगती तोहमत और आमजन में सत्ताधारी पार्टी एवं प्रशासन के खिलाफ फैलते असंतोष ने देश में अफरा-तफरी की आशंका पैदा कर रखी है। पिछले हफ्ते कम्युनिस्ट पार्टी की 18वीं कांग्रेस (महाधिवेशन) के उद्घाटन सत्र में ही निवर्तमान महासचिव और राष्ट्रपति हू जिंताओ ने आगाह कर दिया कि पार्टी के सामने कैसी असाधारण चुनौतियां हैं। उन्होंने कहा- ‘अगर हम भ्रष्टाचार के मुद्दे से अच्छी तरह निपटने में नाकाम रहे, तो यह पार्टी के लिए घातक साबित हो सकता है, यहां तक कि मुमकिन है कि पार्टी ढह जाए और चीनी राज्य का पतन हो जाए।’ गौरतलब है कि पार्टी को दो बड़ेनेताओं बो शिलाई और लिउ झिजुन के प्रकरणों ने कम्युनिस्ट शासन के तहत फैले असीमित भ्रष्टाचार और पार्टी में गुटों की तेज होती लड़ाई को सार्वजनिक कर दिया। इसके अलावा कई अन्य बड़े नेताओं के परिजनोंपर अकूत धन बटोरने और अय्याशी में शामिल होने के ठोस आरोप सामने आए। इनसे पार्टी की साख को बट्टा लगा। उधर, अमेरिका एवं यूरोप में आर्थिक संकट के कारण निर्यात आधारित चीनी अर्थव्यवस्था भी मुश्किल में फंस गई है। कम्युनिस्ट शासन ने सरकारी निवेश को बढ़ावा देकर अर्थव्यवस्था को एक हद तक संभाले रखा है। अब उपभोग को बढ़ावा देकर घरेलू मांग बढ़ाने पर जोर दिया गया है। लेकिन वास्तविक मजदूरी में वृद्धि न होने और निर्यात आधारित कारखानों के बंद होने से बढ़ी बेरोजगारी के बीच ऐसा करना आसाननहीं है। कुल मिलाकर चीन में नया नेतृत्व उस वक्त कमान संभालने जा रहा है, जब देश की अर्थव्यवस्था संकट में फंसती दिख रही है और राजनीतिक व्यवस्था की साख में सुराख हो चुका है। चूंकि नया नेतृत्व भी पुरानी व्यवस्था का ही हिस्सा है, इसलिए उसका नई राह पर चलना आसान नहीं है।

आज या कल जारी कर सकता है RAS प्री का परिणाम

20 Nov

अजमेर.राजस्थान लोक सेवा आयोग आरएएस प्री का परीक्षा परिणाम आज या कल जारी कर सकता है। इधर, सोमवार को दिन भर आयोग दफ्तर में परिणाम के बारे में अभ्यर्थियों के फोन कॉल्स आते रहे। आयोग द्वारा ली गई आरएएस प्री परीक्षा का परिणाम अंतिम चरण में बताया जा रहा है। आयोग सूत्रों का कहना है कि आयोग पहले आरएएस प्री का ही परिणाम जारी करेगा। सोमवार को प्रदेश के विभिन्न जिलों से आयोग कार्यालय में दिन भर परिणाम को लेकर फोन आते रहे। आयोग की ओर से अभ्यर्थियों को कोई स्पष्ट जवाब भी नहीं दिया जा रहा है।

तृतीय श्रेणी अध्यापक भर्ती के अभ्यर्थी ऑन लाइन देख सकेंगे उतर पुस्तिका

19 Nov

जोधपुर. तृतीय श्रेणी अध्यापक सीधी भर्तीपरीक्षा के प्रतियोगियों को अब ऑन लाइन अपनीउत्तर पुस्तिका अर्थात ओएमआर शीट देखने को मिलेगी। पंचायत राज की वेब साइट पर जिला परिषद के माध्यम से यह सुविधा 7 दिसंबर तक उपलब्ध रहेगी।
जिला परिषद के एसीईओ प्रेमाराम परमार ने बताया कि ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज विभाग के आयुक्त एवं शासन सचिव ने जिला परिषद को भेजे आदेश में ये निर्देश दिए हैं।
उन्होंने बताया कि तृतीय श्रेणी प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय सीधी भर्ती प्रतियोगी परीक्षा 2012 में सूचनाके अधिकार के तहत/हाई कोर्ट में दायर याचिकाओं में पारित आदेशों की अनुपालना में प्राप्त आवेदनों के निस्तारणार्थ परीक्षा में शामिलअभ्यर्थियों को ओएमआर शीट, उत्तर पुस्तिका, प्रश्न पुस्तिकाएं एवं उतर कुंजी को जिला परिषद के माध्यम सेपंचायत राज विभाग की वेबसाइट (डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू.राज पंचायत.जीओवी.इन)अवलोकन कराया जाएगा। जिला परिषद कार्यालय में संबंधित अभ्यर्थियों को26 नवंबर से 7 दिसंबर तक निर्धारित अवधि में कार्यालय समय में ऑन लाइन अवलोकन करवाया जाएगा।

Rajasthan Head Master result 2012-13 | RPSC Head Master Result & Cut-Off Marks 2012 | Rajasthan HM Result & Cut-Off Marks 2012 | HM Result 2012-13

19 Nov

अजमेर.राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा रविवार को प्रधानाध्यापक (माध्यमिक शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा 2011 का परिणाम घोषित किए जानेपर प्रदेश के 2072 स्कूलों को प्रधानाध्यापक मिल सकेंगे। कोर्ट के आदेश पर इस परीक्षा में 21 पद रिक्त रह गए हैं।
परीक्षा में सफल रहे अभ्यर्थियों से आयोग ने 4 दिसंबर तक विस्तृत आवेदन पत्र मांगे हैं। आयोग द्वारा प्रधानाध्यापक (माध्यमिक शिक्षा), प्रतियोगी परीक्षा, 2012 की लिखित परीक्षा इस वर्ष15 मई को आयोजित हुई थी। इस परीक्षा में अस्थाई रूप से सफल रहे 2 हजार 72 अभ्यर्थियों का परीक्षा परिणाम रोल नंबर के क्रमानुसार आयोग ने जारी किया।
प्रत्येक रोल नंबर के सम्मुख कोष्ठक में अभ्यर्थी का योग्यता क्रम दर्शाया गया है। आयोग सचिव डॉ. के के पाठक के मुताबिक अस्थाई रूप से सफल घोषित अभ्यर्थी परीक्षा का विस्तृत आवेदन पत्र आयोग की वेबसाइट से डाउनलोड कर उसे पूर्ण रूप से भरकर मय समस्त शैक्षणिक, जाति एवं अन्य वांछितप्रमाण-पत्रों की फोटो प्रति के 4 दिसंबर 2012 को शाम 6 बजे तक आवश्यक रूप से आयोग कार्यालयमें जमा करा दें। आयोग प्राप्त आवेदन पत्रों से अभ्यर्थियों की पात्रता की जांच के पश्चात पात्र अभ्यर्थियों के नाम संबंधित विभाग को अभिस्तावित कर दिये जाएंगे।
21 पद रिक्त रह गए :
आयोग सचिव के मुताबिक राजस्थान उच्च न्यायालय के आदेशानुसार 21 पद रिक्त रखे गए हैं। यह परिणाम रिट याचिका संख्या-6588/12,11978/12 एवं 9977/12 के निर्णय के अध्यधीन रहेगा।
परिणाम रोका :
राजस्थान उच्च न्यायालय के आदेशानुसार अभ्यर्थी रोल नं$ 711674 का परिणाम रोका गया है। अनुचित साधन अपनाए जाने के कारण अभ्यर्थी रोल नं$ 736830,736846,736860,736892, 736898 एवं 737002 का परिणाम रोका गया है। अभ्यर्थी रोल नं$ 716390 एवं 731149 का परिणाम प्रशासनिक कारणों से रोका गया है।

http://www.rpsc.rajasthan.gov.in-Rajasthan HM Result 2012 | RPSC Head Master (HM) Result& Cut-Off 2012 | RPSC Head Master Result & Cut-Off 2012 Name Wise | Rajasthan Public Service Commission (RPSC) Head Master Recruitment Result 2012 & Cut-Off Marks
Rajasthan Public Service Commission (RPSC) Has Conducted Recruitment Examination For The Post Of Head Master (HM).This Examination Was Held On 15,May,2012
RPSC Head Master (HM) Result & Cut-Off 2012 Declared On 18,November,2012
Candidates Can Check Regulary Result Of RPSC Head Master (HM) Result & Cut-Off 2012 At The Official Website Of Rajasthan Public Service Commission (RPSC) At:-

http://www.rpsc.rajasthan.gov.in/Results.aspx

Rajasthan Head Master result 2012-13 | RPSC Head Master Result & Cut-Off Marks 2012 | Rajasthan HM Result & Cut-Off Marks 2012 | HM Result 2012-13

18 Nov

RPSC Head Master (HM) Result& Cut-Off 2012 | Rajasthan Public Service Commission (RPSC) Head Master Recruitment Result 2012 & Cut-Off Marks
Rajasthan Public Service Commission (RPSC) Has Conducted Recruitment Examination For The Post Of Head Master (HM).This Examination Was Held On 15,May,2012
RPSC Head Master (HM) Result & Cut-Off 2012 Declared On 18,November,2012
Candidates Can Check Regulary Result Of RPSC Head Master (HM) Result & Cut-Off 2012 At The Official Website Of Rajasthan Public Service Commission (RPSC) At:-www.rpsc.rajasthan.gov.in/Results.aspx
Best Of Luck For Your Result Of Rajasthan HM Result 2012

http://www.rpsc.rajasthan.gov.in-Rajasthan HM Result 2012 | RPSC Head Master (HM) Result& Cut-Off 2012 | RPSC Head Master Result & Cut-Off 2012 Name Wise | Rajasthan Public Service Commission (RPSC) Head Master Recruitment Result 2012 & Cut-Off Marks
Rajasthan Public Service Commission (RPSC) Has Conducted Recruitment Examination For The Post Of Head Master (HM).This Examination Was Held On 15,May,2012
RPSC Head Master (HM) Result & Cut-Off 2012 Declared On 18,November,2012
Candidates Can Check Regulary Result Of RPSC Head Master (HM) Result & Cut-Off 2012 At The Official Website Of Rajasthan Public Service Commission (RPSC) At:-www.rpsc.rajasthan.gov.in/Results.aspx

Rajasthan Head Master result 2012-13 | RPSC Head Master Result & Cut-Off Marks 2012 | Rajasthan HM Result & Cut-Off Marks 2012 | HM Result 2012-13

http://www.rpsc.rajasthan.gov.in – Rajasthan Head Master result 2012-13 | RPSC Head Master Result & Cut-Off Marks 2012 | Rajasthan HM Result & Cut-Off Marks 2012 | HM Result 2012-13</

general cut off 366.49

राजस्थान राज्य एवं अधीनस्थ सेवा भर्ती 2012 की प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम

16 Nov

…तो जनवरी में होगी मुख्य परीक्षा
अजमेर। राजस्थान लोक सेवा आयोग दीपावली अवकाश के बाद शुक्रवार को फिर राजस्थान राज्य एवं अधीनस्थ सेवा भर्ती 2012 की प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम को अंतिम रूप देने में जुटेगा। दीपावली अवकाश की वजह से कर्मचारियों की कमी तथा तकनीकी परेशानी के कारण फिलहाल परिणाम घोषित नहीं हो सका है। आयोग परिणाम के साथ ही मुख्य परीक्षा का कार्यक्रम भी तैयार करने में जुटा है। आयोग का लक्ष्य है कि यदि एक सप्ताह के भीतर परिणाम जारी जो जाता है तो मुख्य परीक्षा दिसम्बर के अंत या जनवरी में कराई जा सकती है।
आयोग अब जल्द से जल्द परिणाम जारी करने के लिए प्रयासरत है। आयोग ने दीपावली से पहले परिणाम जारी करने की मशक्कत जरूर की लेकिन नतीजा नहीं निकला। आयोग 14 जून को आहूत हुई इस परीक्षा की उत्तर कुंजी पहले ही जारी कर चुका है।

jan lokpall essay

16 Nov

The first Jan Lokpal Bill was introduced by Shanti Bhushan and passed in the4th Lok Sabha in 1969 but could not get through in the Rajya Sabha.
Subsequently, Lokpal bills were introduced in 1971, 1977, 1985, 1989, 1996, 1998, 2001, 2005 and in 2008, yet they were never passed .
42 years after its first introduction, the Lokpal bill is still pending in India.
History:
The basic idea of the Lok Pal is borrowed from the office of ombudsman, which has played an effective role in checking corruption and wrong-doing in Scandinavian and other nations. In early 1960s, mounting corruption in public administration set the winds blowing in favour of an Ombudsman in India too. The Administrative Reforms Commission (ARC)set up in 1966 recommended the constitution of a two-tier machinery – of a Lokpal at the Centre, and Lokayukta(s) in the states.
Details:
The Lokpal Bill provides for filing complaints of corruption against the prime minister, other ministers, and MPs with the ombudsman. The Administrative Reforms Commission (ARC) while recommending the constitution of Lokpal wasconvinced that such an institution was justified not only for removing the sense of injustice from theminds of adversely affected citizens but also necessary to instill public confidence in the efficiency of the administrative machinery. Following this, the Lokpal Bill was for the first time presented during the fourth Lok Sabha in 1968, and was passed there in 1969.
However, while it was pending in the Rajya Sabha, the Lok Sabha was dissolved, and so the bill was not passed at that time. The bill was revived in 1971, 1977, 1985, 1989,1996, 1998, 2001, 2005, and most recently in 2008.Each time, after the bill was introduced to the house, it was referred to some committee for improvements ** a joint committee of parliament, or a departmental standing committee of theHome Ministry **and before the government could take a final stand on the issue, the house was dissolved. Several flaws have been cited in the recent draft of the Lokpal Bill. Meanwhile the activists of India Against Corruption (IAC) have prepared a draft for the bill called Jan Lokpal Bill.
Duties:
* To judge the cases and make jurisdictions against corruption cases with the Lokpal.
* To judge whether a case is legal or whether a fake complaint has been made.
* To potentially impose fines on a fake complaint, or even a short span of jailtime, if the case is not proved to be legally true.